Recent Comments

    Archives

    Author Archive

    राग दरबारी- श्री लाल शुक्ल

    राग दरबारी श्री लाल शुक्ल, उनकी सामाजिक और राजनीतिक व्यंग्य के लिए जाना जाता है. इस उपन्यास के लिए 1970 में सबसे बड़े भारतीय साहित्यिक पुरस्कार से सम्मानित किया गया. राग दरबारी भारतीय समाज आजादी के बाद में नैतिक मूल्यों में क्षय पर एक व्यंग्य नज़र लेता है. यह राजनीतिज्ञों, व्यवसायियों, अपराधियों, और पुलिसकर्मियों के...

    शेष प्रश्न(अंतिम प्रश्न) -शरतचंद्र चट्टोपाध्याय

      शेष प्रश्न(अंतिम प्रश्न) शरतचंद्र चट्टोपाध्याय के सभी उपन्यासों से सबसे मौलिक और अभिनव है. जब यह उपन्यास पहली बार 1931 में प्रकाशित किया गया था तो रूढ़िवादी समाज में अपने व्यापक,स्वतंत्र और निर्भीक विचारो से हलचल मचा दिया था. नायिका, कमल, उस समय के लिए असाधारण है और आज भी उतनी ही प्रासंगिक है...

    तमस -भीष्म साहनी

    तमस कहानी एक छोटे शहर की सीमा रियासत  की है.  कहानी विभाजन से पहले की है . इस पुस्तक में, लेखक एक सफाई कर्मचारी के रूप में काम करने वाले नाथू की कहानी  हैं. जो एक क्षेत्रीय मुस्लिम राजनीतिक नेता द्वारा रिश्वत और धोखा दिया जाता है और  एक सुअर को  मरवा दिया जाता है....

    गोदान – प्रेमचन्द

            गोदान प्रेमचन्द हिन्दी के सर्वाधिक लोकप्रिय उपन्यासकार हैं और उनकी अनेक रचनाओं की गणना कालजयी साहित्य के अन्तर्गत की जाती है। ‘गोदान’ तो उनका सर्वश्रेष्ठ उपन्यास है ही, ‘गबन’, ‘निर्मला’, ‘रंगभूमि’, ‘सेवा सदन’ तथा अनेकों कहानियाँ हिन्दी साहित्य का अमर अंग बन गई हैं। इनके अनुवाद भी भारत की सभी प्रमुख तथा अनेक विदेशी...

    Sahitya Academy Yuva Puraskar 2012

    डॉ. कविता वाचक्नवी को आचार्य महावीर प्रसाद द्विवेदी पत्रकारिता सम्मान

    भारतीय उच्चायोग लंदन में सम्मान – समारोह संपन्न डॉ. कविता वाचक्नवी को  स्मृतिचिह्न भेंट करते हुए भारतीय उच्चायुक्त डॉ जैमिनी भगवती. भारतीय जीवन मूल्यों के वैश्विक प्रचार-प्रसार की संस्था “विश्वम्भरा” की संस्थापक-महासचिव डॉ.कविता वाचक्नवी को विश्व हिन्दी दिवस के उपलक्ष्य में भारतीय उच्चायोग, लंदन द्वारा इण्डिया हाउस में आयोजित समारोह में “आचार्य महावीर प्रसाद द्विवेदी...