खम्मा / अशोक जमनानी

खम्मा / अशोक जमनानी

खम्मा पर डॉ आईदान सिंह भाटी जी के विचारडॉ आईदान सिंह भाटी हमारे देश के शीर्षस्थ साहित्यकारों में शुमार होते हैं। इस वर्ष उन्हें राजस्थानी भाषा के लिए केन्द्रीय साहित्य अकादमी की ओर से सम्मानित किया गया है। उन्होंने खम्मा पर अपनी राय प्रेषित की है जिसे आपके साथ साझा कर रहा हूँ ……….अशोक जमनानी के सभी उपन्यासों के केन्द्र में भारतीय जीवन की वे उदात्त परम्पराएँ और जीवन स्थितियाँ हैं जिनसे कभी इस समाज का ताना-बाना बुन गया था पर समय और परिस्थितियों के कारण वे कमज़ोर हो गयीं हैं। जो भारतीय संस्कृति अपनी कर्म-निष्ठा के बल पर सबल बनी थी उसमें आम आदमी के निजी और सामाजिक जीवन-मूल्य सदैव महत्वपूर्ण रहे हैं। जीवन-मूल्यों की उन महत्वपूर्ण कड़ियों को अशोक जमनानी ने आज की भाव-भूमि पर देखा-परखा है और उन सबलताओं को पाठकों के सामने रखने का विश्वसनीय प्रयास किया है। आज के इस वैश्वीकरण के दौर में जबकि भारतीय समाज की आँखें लोभ-लाभ के व्यामोह में चुंधियाई हुईं हैं, जमनानी इन सबसे बेपरवाह पाठक के सामने वह भाव-भूमि प्रस्तुत करते हैं जो उसे संवेदनशील तो बनाती ही है साथ ही उसे उस वैचारिक भाव-भूमि पर भी खड़ा करती है जहाँ उसकी परम्परा की जड़े हैं। जमनानी संस्कृति के नाम पर रूढ़ियों का पोषण नहीं करते हैं वरन स्वस्थ जीवन मूल्यों को आज के जीवनगत परिवेश में देखते-परखते हैं। यह परिवेशगत यथार्थ उसे समकालीन जीवन-मूल्यों से जोड़ता है जो कथा को आधुनिक तो बनाता ही है पाठक के सामने सांस्कृतिक संवेदना के अनेक बिम्ब खड़े करके उसे प्रश्नाकुल भी करता है। क्या हम विकास के सही पथ पर हैं ? हम प्रगति और विकास के नाम पर कहाँ जा रहे हैं ? आदि सवाल उसकी मानसिकता में घुसा कर जमनानी पाठक को भारतीय समाज की सबल और स्वस्थ कड़ियाँ थमा कर आकुल-व्याकुल कर देते हैं।
खम्मा उपन्यास में थार के रेगिस्तान में जीवन-यापन करते कलाकार मांगणियार समुदाय की स्थितियों-परिस्थितियों का लेखा-जोखा है। आज़ादी के बाद उनकी सामाजिक परिस्थितियों में बदलाव आये और वे लोकतंत्र और विकास के नाम पर दलालों के शिकार हो गए। पारम्परिक जजमानों से उनके संबंधों में क्षरण आने लगा। बींझा-सूरज की कथा के माध्यम से मांगणियार गायकों के अतीत, वर्तमान और भविष्य पर उपन्यासकार ने दृष्टि डाली है। सूरज-प्राची, बींझा-सोरठ,क्रिस्टीन,सारंगी,लखी,मलंग,मरुखान,प्रतीची,ब्रजेन आदि के माध्यम से इनके जीवन में होने वाले परिवर्तन को तो रचा ही है साथ ही सवाल भी खड़े किये हैं कि क्या ये परिवर्तन इस कलाकार समुदाय को सम्पूर्ण संरक्षण दे पायेंगे? साथ ही राजस्थानी गीतों और कथाओं से लेखक ने इसे सांस्कृतिक सुरभि प्रदान की है।
उपन्यास के केन्द्रीय चरित्र उदात्त और आदर्शवादी हैं, वहीँ समकालीन आर्थिक स्थितियों के कारण भौतिकता की ओर ललचाई आँखों से देखते हुए पतनशील चरित्र भी हैं। चरित्रों की टकराहट से ही उपन्यासकार संस्कृति की ऊँचाइयों को पाठकों तक पहुंचाते हैं। पूंजी में पगी आँखों और मानवी रिश्तों के लिए तरसती आँखों का तुलनात्मक विवरण सहज ही पाठक को झकझोर देता है। ये चरित्र ही हमें पावनता और कलुषता का अंतर भी बताते हैं। स्त्री-पुरुष के बीच सहज ही पनपी हेत-प्रीत और उसका रूपास पाठक के मन पर छा जाता है। एक ऐसा मानवीय प्रेम जो सहज आकर्षण से,साहचर्य से पैदा होता है। यहाँ बहरी सौन्दर्य महत्वपूर्ण नहीं है, भीतरी राग तत्व महत्वपूर्ण है। इस राग तत्व से रचे गए ये चरित्र अशोक जमनानी की दृष्टि का ही विस्तार हैं। ‘ आज भी सब कुछ नष्ट नहीं हुआ है ‘ यह अशोक जमनानी के चरित्रों के केंद्र में है और इसीलिए यह उपन्यासकार उपदेश नहीं देता बल्कि सब कुछ अपने चरित्रों के माध्यम से कह देता है। साथ ही अशोक जमनानी के उपन्यास में कथा और देशकाल सतही जानकारियों पर आधारित नहीं हैं बल्कि वे इन स्थानों और परम्पराओं की पूरी पड़ताल करने के बाद ही उसे अपना उपजीव्य बनाते हैं. थार की माड धरा के प्रतीक शब्द धोरे-टीले,खड़ताल,कमायचा,करहला,मोहरी,आंधी,चानंण पख,अंधार पख,किलकिलये कंवर, असपत,मुजरो आदि द्वारा वे खम्मा का परिवेश न केवल पाठकों को सौंपते हैं वरन उनके हिरदे में उतार देते हैं। यह उपन्यास सांस्कृतिक जीवन गाथा का दस्तावेज़ है। अशोक जमनानी विलुप्त हो रही जीवन पध्दतियों और स्थानों की महत्ता के सामने आज की अंधी भौतिकता की दौड़ की विसंगतियों को रखते हैं और पाठक को पहचान के लिए विवश करते हैं कि उसके लिए क्या वरेण्य है? खम्मा में मालिक और सेवक के संबंधों में जो अपनापा,आधुनिक मानवीय दृष्टि और मिठास घोली है वह न केवल उनकी कल्पनाशील आँखों का कमाल है वरन यही वह दृष्टि है जहाँ साहित्य यथार्थ का अतिक्रमण कर साहित्य बनता है।
अशोक जमनानी को बधाई और ‘घणा रंग’। ‘रंग’ हमारे राजस्थानी में उन्हें दिया जाता है जो श्रेष्ठ कार्य करते हैं। जैसे ….

रंग रामा रंग लछिमणा रंग दशरथ रा कंवरांह
लंका लूटी सोवणी , आलीजा भंवरांह

- डॉ आईदान सिंह भाटी

***                                                 ***                                              ***                                           ***

किसी भी स्थान पर बसने वालों की संस्कृति से परिचित होना हो तो इसका सबसे सटीक तरीका वहाँ के लोकगीत हैं| लोकगीतों मे लोक की परम्परा निहित होती है| उस क्षेत्र का भूगोल, इतिहास, समाज का तानाबाना, रीतिरिवाज सब कुछ सिर्फ लोकगीतों के सूक्ष्म अध्ययन से पता किये जा सकते हैं| किसी क्षेत्र विशेष के गीतों में वहाँ की स्थानीय वनस्पतियों के नाम, वहाँ के पशुओं के नाम और पहाड़, नदी व अन्य महत्त्वपूर्ण जानकारियाँ उपलब्ध होती हैं| और इन गीतों की जो सबसे बड़ी खासियत है वो यह कि ये जनसाधारण के गीत हैं, इनके लिये किसी विद्वता की आवश्यकता नहीं| ये धनिकों के लिये आरक्षित गीत नहीं हैं, ये सदियों से धरा पर गूँजते हुये गीत हैं जिनमें हमारा आपका इतिहास छुपा है| इन लोकगीतों और लोककलाओं का अपना स्वयं का भी एक इतिहास है| चारण भाट परम्परा से लेकर अल्हैत (आल्हा गाने वाले) और मांगणियार आदि सब इसी परम्परा का हिस्सा हैं| इस अमूल्य धरोहर को सँजोकर रखने की आवश्यकता है और इसका अध्ययन करने की भी बहुत जरूरत है|

इसी परिप्रेक्ष्य में एक कोशिश है अशोक जमनानी का उपन्यास ‘खम्मा’| जमनानी जी ने सतह पर न टिककर डूबने की कोशिश की है और संवेदनाओं में डूबकर वो जो कुछ समेट पाये हैं उसे उन्होने खम्मा में वर्णित किया है| उपन्यास प्रारम्भ करने से पहले ही उन्होने गाँधी जी को उद्धृत किया है| गाँधी जी के अनुसार, लोक-गीत संस्कृति के पहरेदार हैं|

पूरा उपन्यास इसके नायक बींझा के इर्द-गिर्द केन्द्रित है| यहाँ बींझा को समझना उपयुक्त होगा| बींझा मांगणियार परम्परा का आधुनिक चेहरा है, उसके अंदर पारम्परिक कलाकार है, अच्छा सुर है पर वो इस परम्परा के बोझ से मुक्त होना चाहता है| इसलिये नहीं कि उसे गीत संगीत नहीं रुचता बल्कि इसलिये कि उसका आत्मसम्मान खंडित होता है बख्सीस लेने में, हुकुम हुकुम, खम्मा खम्मा करने में| उसका कलाकार सुलभ आत्म सम्मान उसे कहीं भी झुकने से रोकता है| आधुनिक व्यवस्था अपने रोजगार के विकल्पों के साथ उसे आकर्षित करती है| वो शहर का रास्ता नापता है और विदेश जाने के ख्वाब भी रखता है| और पूरी कथा इन्हीं ख्वाबों की है|

कथा के अन्य पात्र हैं मरुखान(बींझा के पिता), सोरठ(बींझा की पत्नी), सूरज(राजपूतों की नयी पौध का प्रतीक), सुरंगी, झाँझर, क्रिस्टीन व ब्रजेन| सारे पात्र परिस्थितियों से जूझते हुये बड़े ही सुंदर दिखाई देते हैं| इन पात्रों में एक चीज ध्यान देने योग्य है| सारे पात्र सकारात्मक रवैये वाले हैं, किसी-2 क्षण कहीं किसी पर नकारात्मकता हावी भी हुई तो बस क्षणिक| उसके बाद फिर से ये जीवन को आशावादी नजरिये से देखने लगते हैं| सबके अंदर जिजीविषा है और साहस भी है| सुरंगी व झाँझर ने जमाने से दबने के बजाय जमाने के दाँव पेंच सीख लिये हैं जो उन्हें ऊर्जा व हिम्मत देता है| उपन्यासकार को अलग से कुछ कहने कि कोई आवश्यकता ही नहीं पड़ती| उसके पात्र इतने सजीव हैं कि सारी बात वे खुद कह जाते हैं|

विचारधारा ढूँढने वालों को यहाँ निराशा हाथ लगेगी| लेखक ने किसी वाद के लिये नहीं लिखा है| लेखक ने एक परम्परा के दीपक की बुझती हुई लौ के बारे में लिखा है, परम्पराओं मे विश्वास करने वाले अपनी विचारधारा यहाँ तलाश सकते हैं| लेखक ने वंचित (शोषित नहीं, शोषित और वंचित में बहुत फर्क है) वर्ग के बारे में लिखा है, वंचितों की बात करने वाले अपनी विचारधारा यहाँ देख सकते हैं| पर इन सबसे ऊपर लेखक ने एक बेहतर कल के सपनों और उम्मीदों के बारे मे लिखा है और सपनों की कोई विचारधारा नहीं होती|

पूरी कथा में एक द्वंद है पुरातन का नवीन से, आदर्श का लोभ से, पूंजी का संस्कृति से, लोकरंग का सिनेमाई रंग से, प्रेम का वासना से| इन द्वंदों के बीच राजपूतों और मांगणियारों के सम्बन्ध को नये संदर्भ में समझने कि चेष्टा है और इन सम्बन्धों के पुनर्परिभाषित होने का द्वंद पूरी कथा में सशक्त रूप से विद्यमान है| वर्तमान संदर्भ में राजपूतों और मांगणियारों के बीच उच्च और निम्न का रिश्ता अप्रासंगिक और त्याज्य है| कलाकार और रसिक के बीच मैत्री का रिश्ता होना चाहिये और अशोक जी यह संदेश देने मे सफल हैं|

उपन्यास का कथानक गतिशील है और पाठक की उत्सुकता बनाये रखने का पूरा जतन किया गया है| कथा कहीं भी बोझिल नहीं है| धोरे-टीले, खड़ताल, मोरचंग, कमायचा, बींदणी, चानंण पख, अंधार पख, पीवणा आदि शब्द एक पूरे सांस्कृतिक परिवेश की सृष्टि करते हैं| बीच-बीच में मोतियों की भाँति सजे गीत पाठक को कहीं और ले जाते हैं, संगीत और प्रेमकहानियाँ मिलकर एक अलग ही भाव प्रस्तुत करती हैं| और वो भाव हमेशा सांस्कृतिक धरोहरों को सहेजने के प्रति सजग करते हैं और यही इस उपन्यास की सफलता है|

अन्त में उपन्यास से कुछ चुने हुये अंश:

1- औरत जिंदगी में आगे तो बढ़ती है लेकिन पीछे छूटे का मोह नहीं छोड़ पाती| बार-बार पलटकर देखती है|    ( पृष्ठ 66)

2- जिस कलाकार के दिल को ठेस लगी होती है उसका हुनर केवल हुनर कहाँ रह जाता है? उसके हुनर को तो उसकी पीर, पीर बना देती है|      (पृष्ठ 71)

3- एक बात मैं साफ-2 बता दूँ चाहे किसी को मेरा हुनर कितना भी अच्छा क्यों न लगे मैं अपना मेहनताना तो ले सकता हूँ लेकिन बख्सीस या भीख मुझे मंजूर नहीं है| न कभी ली है और न कभी लूँगा|     (पृष्ठ 93)

4- दो मरद साथ में रहें तो घर की हालत बिगाड़ दें लेकिन दो औरतें एक घर में हों और घर गंदा रहे तो समझ लेना कि दोनों के दिल में बैर है|     (पृष्ठ 94)

5- धोरे टीलों की किस्मत में विधाता ठहराव कहाँ लिखता है| धोरे टीले जिनके पैरों से लिपटते हैं वो भी उनकी शक्ल बिगाड़ कर आगे बढ़ जाते हैं| जिन्हे वो अपनी गोद में बहुत मुहब्बत के साथ पनाह देते हैं वो भी बैठे बैठे बेवजह ही उनके साथ खिलवाड़ करते रहते हैं| हर एक आमद धोरे टीलों का रूप बिगाड़ती है और शायद उन्होने भी इसे किस्मत का लिखा मानकर सब कुछ सहने का मन तो बना लिया है| लेकिन कहीं न कहीं एक टीस बाकी है इसलिये ये धोरे-टीले धीमे धीमे सरकते हैं और कभी कोई बेखुदी मे उनकी कगार पर पहुँच जाता है तो उसे लेकर इस तरह फिसलते हैं कि वो रेत में डूबा शख़्स जब उबरता है तो धोरे-टीलों का मन उसे देखकर देर तक खिलखिलाता है| लेकिन इन्हीं कगारों पर रहे ऊँटों से धोरे-टीलों का एक समझौता सा हो गया है, वो उन्हे नहीं गिराते| जब तेज हवायें धोरे-टीलों का रूप रूप बिगाड़ती हैं और उनकी रेत उड़कर न जाने कहाँ से कहाँ पहुँच जाती है तब ये ऊंटों के कारवाँ ही तो हैं जो वहाँ जा जा कर धोरे-टीलों की बिछड़ी रेत को उनके बिछड़े हुओं का संदेशा सुनाते हैं और वहाँ इनके पाँव से लिपटकर वो रेत उनसे मिल लेती है जिनसे बिछड़े हुये जमाना बीत चुका होता है| शायद इसी रिश्ते की दुहाई लेकर ऊँट इन धोरे-टीलों पर बेफिक्र होकर चलते हैं|     (पृष्ठ 106)

6- लेकिन कुछ कलाकार हैं जो किसी के आगे सिर नहीं झुकाते| उनकी आवाज में वो नूर होता है जो लोगों की रूह तक पहुंचता है|      (पृष्ठ 155)

7- मांगणियार नहीं गाते, माडधरा गाती है मांगणियारों के गले में उतरकर |                         (आवरण पृष्ठ)

विनीत :: अवनीश